नक्सली सोरेन कोड़ा ने किया आत्मसमर्पण

जमुई। एसपी प्रमोद कुमार मंडल ने सोमवार को समाहरणालय स्थित कार्यालय प्रकोष्ठ में मीडिया कर्मियों को डॉक्टर उर्फ सोरेन कोड़ा के द्वारा किये गए आत्मसर्पण की जानकारी देते हुए कहा कि वह 2004 से भाकपा माओवादी के सक्रिय सदस्य के रूप में कार्य कर रहा है। उन्होंने आगे बताया कि बरहट थाने के चोरमारा गांव निवासी दीना कोड़ा का पुत्र सोरेन कोड़ा जमुई जिला के दर्जनों कांडों का वांछित अभियुक्त है। इसके अलावे वह लखीसराय और मुंगेर जिला के कई मामलों का भी नामजद आरोपी है। एसपी श्री मंडल ने आगे बताया कि 2005 में भीमबांध जंगल में मुंगेर के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक के. सी. सुरेंद्र बाबू की हत्या में भी वह अपनी संलिप्तता स्वीकार की है। इसके अलावे वह कई जघन्य अपराधों का भी नामजद आरोपी है। श्री मंडल ने कहा कि वह माओवादी संगठन की खोखली विचारधारा से तंग आकर और बिहार सरकार की पुनर्वास योजना से प्रभावित होकर आत्मसमर्पण किया है। उन्होंने कहा कि आत्मसमर्पण करने के बाद सोरेन कोड़ा को राज्य सरकार की पुनर्वास नीति केअंतर्गत यथोचित मदद दी जाएगी। एसपी श्री मंडल ने तथाकथित नक्सलियों से अपील करते हुए कहा कि वे भी अपराध जगत को बाय – बाय कहकर मुख्य धारा में शामिल हो जाएं और जिला के साथ राज्य के विकास में सकारात्मक सहयोग दें। एएसपी अभियान सुधांशु कुमार समेत कई पुलिस कर्मी मौके पर मौजूद थे।